Screen Reader Access Skip to Main Content Font Size   Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Indian Railway main logo
खोज :
Find us on Facebook   Find us on Twitter View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

मंडल

समाचार एवं अद्यतन

निविदाओं और अधिसूचनाएं

प्रदायक सूचना

यात्री सेवा

हमसे संपर्क करें



 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
संकेत एवं दूर संचार विभाग

  • सिग्नल एवं दूरसंचार विभाग की भूमिका
  • गाड़ी परिचालन में संरक्षा
  • एडमिनिस्ट्रेटिव वॉयस एंड डेटा सर्किट
  • यात्री आरक्षण प्रणाली(रेल नेटवर्क में डेटा सर्किट)
  • अनारक्षित टिकट प्रणाली(रेल नेटवर्क में डेटा सर्किट)
  • फ्रेट ऑपरेशन इंफोर्मेशन सिस्टम(रेल नेटवर्क में डेटा सर्किट)
  • क्रू मैनेजमेंट सिस्टम (रेल नेटवर्क में डेटा सर्किट)
  • कोचिंग इंफोर्मेशन सिस्टम(रेल नेटवर्क में डेटा सर्किट)

सियालदह मंडल में आधुनिक सिग्नल प्रणाली

1. सिंगल सेक्शन डिजिटल एक्सेल काउंटर :
आधुनिक सिग्नल व्यवस्था की ओर आगे बढ़ते हे सियालदह मंडल ने एसएसडीएसी को अपना लिया है । ये कॉम्पैक्ट एवं विश्वसनीय उपकरण हैं जो गाड़ी का सम्पूर्ण आगमन सिद्ध करते हैं । ब्लॉक का पता बताने वाले ये एक्सेल काउंटर 78 ब्लॉक सेक्शनों में लगाए गए हैं ।

2. स्वचालित सिग्नल व्यवस्था :
आधुनिक सिग्नल व्यवस्था की ओर बढ़ते हुए सियालदह मंडल ने एसएसडीएसी अपना लिया है । ये कॉम्पैक्ट एवं विस्वसनीय उपकरण हैं जो गाड़ी के सम्पूर्ण आगमन को सिद्ध करते हैं । ब्लॉक का पता बताने वाले ये एक्सेल काउंटर 78 ब्लॉक सेक्शनों में उपलब्ध कराए गए हैं ।

3. डेटा लॉगर :
डेटा लॉगर माइक्रो प्रोसेसर आधारित प्रणाली है जो स्टेशनों पर घटित हो रहे महत्वपूर्ण सिग्नल के आदान-प्रदान तथा इंटरलॉकिंग संबंधी क्रियाओं के आगे बढ़ने की घटनाओं को लॉग करती है । स्टेशन पर 45 डेटा लॉगर लगाए गए हैं जिनके साथ पैनल इंटरलॉकिंग की सुवॆधा है । डेटा लॉगर सिग्नल की त्रुटियों का पता लगाने में मदद करता है ।

4. इंटीग्रेटिड पावर सिस्टम (आईपीएस) :
सिग्नल के उपकरण स्थापित करने के लिए एसएमपीएस आधारित पावर सप्लाई सिस्टम की व्यवस्था की जा रही है । इन सिस्टमों के द्वारा सिग्नल के आदान-प्रदान हेतु अपेक्षित विभिन्न वोल्टेज प्राप्त किए जाते हैं । सब-सिस्टम को आईपीएस कहा जा सकता है जो बैटरी बैंकों के लिए आवश्यकता को कम कर देता है । सियालदह मंडल में 76 आईपीएस सिस्टम उपलब्ध कराए गए हैं ।

दूरसंचार
रेलवे की विशाल परिवहन प्रणाली के लिए मूलभूत दूरसंचार सुविधाएं पलब्ध कराना सिग्ल एवं दूरसंचार विभाग की जिम्मेवारी है । रेलों में उपलब्ध कराई गई दूरसंचार सुविधाओं को विस्तृत रूप से व्यवहार के तीन क्षेत्रों में कोटिबद्ध किया गया है ।
संचार प्रणाली गाड़ी के सक्षम नियंत्रण तथा निगरानी हेतु नियंत्रक उपलब्ध कराता है । नियंत्रण कार्यों के लिए बहु प्रयोजनीय सर्किट उपलब्ध हैं जिन्हें सियालदह के केन्द्रीय नियंत्रण के साथ जोड़ा गया है ।
ऑप्टिकल फाइबर कम्यूनीकेशन एवं माइक्रोवैब कम्यूनीकेशन :
ऑप्टिकल फाइबर कम्यूनीकेशन प्रणाली दूरसंचार नेटवर्क की रीढ़ की हड्डी है । 52 स्टेशनों पर फाइबर नेटवर्क के साथ 155 mbps क्षमता वाले शॉर्ट हाउल एसटीएम -1 उपकरण लगाए गए हैं । शॉर्ट हाउल एसटीएम -1 नेटवर्क को सेक्शनों के नियंत्रण में उपलब्ध लोंग हाउल एसटीएम -1 सेल्फ हीलिंग रिंग नेटवर्क के द्वारा संरक्षित किया गया है । फाइबर नेटवर्क में विभिन्न एप्लीकेशनों के लिए वॉयस,डेटा एवं मल्टी मीडिया सेवाएं उपलब्ध हैं ।
माइक्रोवैब कम्यूनीकेशन :
मंडल के सियालदह साउथ में स्थित 24 स्टेशनों पर 18 GHZ डिजिटल माइक्रोवैब सिस्टम उपलब्ध है ।
ओएफसी तथा एमवी कम्यूनीकेशन सिस्टम मंडलों तथा क्षेत्रीय मुख्यालयों के वॉयस एवं डेटा कम्यूनीकेशन सर्किटों की सम्पूर्ण आवश्यकताओं की पूर्ति करते हैं ।

डिजिटल जन सम्बोधन प्रणाली
सियालदह स्टेशन पर पीए साउंड मैनेजमेंट सिस्टम के साथ ‘ईटीएचईआरएनईटी’ आधारित ऑडियो प्रोसेसर का प्रयोग कर एक नया डिजिटल जन सम्बोधन प्रणाली स्थापित की गई है । इस नई प्रणाली का मुख्य उद्देश्य पारिचा के नियंत्रण कक्ष, सियालदह स्टेशन के नियंत्रण कक्ष और िसयालदह(नॉर्थ मेन) आरआरआई से नए शेड्यूल की उद्घोषणा हेतु सुविधा उपलब्ध कराना और शब्दों को अलग-अलग ,बोधगम्यता पूर्ण ढंग से ठहर-ठहर कर बोलने संबंधी मानक के लक्ष्य को प्राप्त करना है ।

सिस्टम सभी यात्री ठहराव वाले स्थानों पर सभी सुनने वालों के लिए 0.55 से अधिक डेसीबल पर स्पीच ट्रांसमिशन इंडेक्स (एसटीआई) को बनाए रखता है , जिससे वाणी की बोधगम्यता और आवाज के दाब स्तर को 85 डेसीबल अर्थात् 75 डेसीबल के औसत शोर स्तर से अधिक 10 डेसीबल पर यथावत रखा जा सके,जिससे उद्घोषणा को श्रव्य बनाया जा सके । यह सिस्टम उद्घोषणा के वोल्यूम को नियंत्रित करने में सक्षम है किन्तु यह सियालदह नॉर्थ तथा मुख्य स्टेशन क्षेत्र में अनुकूल स्थानों पर शोर के संवेदन का पता लगाने के लिए लगे 12 अदद् माइक्रो फोनों का उपयोग कर आस-पास के शोर के स्तर पर निर्भर है ।

दूरभाष केन्द्र
रेलवे की दूरसंचार संबंधी आंतरिक आवश्यकताओं की पूर्ति करने के लिए दूरभाष केन्द्र उपलब्ध कराता है । सियालदह मंडल में हमारे पास 11 इलेक्ट्रानिक एक्सचेंज उपलब्ध हैं जो 2 MB लिंक के साथ जुड़े हुए हैं ।

डेटा कम्यूनीकेशन
कम्प्यूटरीकृत यात्री आरक्षण प्रणाली(पीआरएस), अनारक्षित टिकट प्रणाली (यूटीएस), माल-भाड़ा परिचालन तथा सूचना प्रणाली (एफओआईएस), क्रू मैनेजमेंट प्रणाली(सीएमएस) के लिए डेटा कम्यूनीकेशन सर्किट ।

ऑप्टिकल फाइबर कम्यूनीकेशन
निम्नलिखित सेक्शनों में ऑप्टिकल फाइबर कम्यूनीकेशन प्रारंभ किया गया है :-

1. सियालदह - बीपी-एनएच-आरएचए-केएनजे 99.22 किमी..
2.केएनजे-एलजीएल 127.67 किमी...
3.डीडीजे—डीडीसी—बीटी—बीएनजे—आरएचए 105.59 किमी..
4.बीटी—एचएनबी 52.30 किमी...
5.िसयालदह-एमजेटी—बीजीबी 25.51 किमी..
6.डीडीजे — एमजेटी 18.40 किमी...
7.सियालदह –बीआरपी 24.74 KMS.
8.एलकेपीआर-एनएएमके 46.56 KMS.
SCS




Source : पूर्व रेलवे CMS Team Last Reviewed on: 13-08-2021  


  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.