Indian Railway main logo
Search :
Increase Font size Normal Font Decrease Font size
Find us on Facebook   View Content in Hindi
National Emblem of India

About Us

Divisions

News & Updates

Tenders

Supplier Information

Passenger information

Contact Us



Goto Yahoo!!


 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS

आसनसोल मंडल में स्‍थापि‍त ‘हिंदी पुस्‍तकालय

एक संक्षि‍प्‍त परि‍चय

पूर्व रेलवे के अंतर्गत आसनसोल मंडल के वि‍भि‍न्‍न स्‍टेशनों/शेडों/कार्यालयों में कुल 13 ‘हिंदी पुस्‍तकालय स्‍थापि‍त हैं। रेल जैसी वि‍शाल परि‍चालनि‍क एवं तकनीकी कार्य-प्रकृति‍ वाले संगठन में कर्मचारि‍यों में साहि‍त्‍यि‍क अभि‍रुचि‍ उत्‍पन्‍न करने व काम-काज से उनके क्लांत मन को वि‍श्रांति‍ प्रदान करने के साथ-साथ राजभाषा हिंदी के प्रचार-प्रसार को ध्‍यान में रखते हुए इन हिंदी पुस्‍तकालयों का गठन कि‍या गया है जि‍नका वि‍वरण नि‍म्‍नानुसार है :

क्र.सं.

पुस्‍तकालय का नाम

अवस्‍थि‍ति

1.

जयशंकर प्रसाद हिंदी पुस्‍तकालय 1 2 3 4 5 6

मंडल कार्यालय परि‍सर/आसनसोल

2.

महादेवी वर्मा हिंदी पुस्‍तकालय

टी.आर.एस./आसनसोल

3.

नागार्जुन हिंदी पुस्‍तकालय

सीतारामपुर स्‍टेशन

4.

अज्ञेय हिंदी पुस्‍तकालय

मुख्‍य यार्ड मास्‍टर/अंडाल स्‍टेशन

5.

नि‍राला हिंदी पुस्‍तकालय

व.मं.यां.इंजी.(डीजलशेड)/अंडाल

6.

शि‍वानी हिंदी पुस्‍तकालय

बराकर स्‍टेशन/मुख्‍य यार्ड मास्‍टर

7.

फणीश्‍वर नाथ रेणु हिंदी पुस्‍तकालय

सहा.इंजी. कार्यालय/मधुपुर

8.

डॉ.हरि‍वंश राय बच्‍चन हिंदी पुस्‍तकालय

जसीडीह स्‍टेशन

9.

रामधारी सिंह दि‍नकर हिंदी पुस्‍तकालय 1 2

आसनसोल स्‍टेशन

10.

तुलसीदास हिंदी पुस्‍तकालय

दुर्गापुर स्‍टेशन

11.

प्रेमचंद हिंदी पुस्‍तकालय

रेलवे अधिकारी क्‍लब, आसनसोल

12.

यशपाल हिंदी पुस्‍तकालय 

मंडल प्रशि‍क्षण केंद्र/मधुपुर

13.

सुमि‍त्रा नंदन पंत हिंदी पुस्‍तकालय

कालूबथान स्‍टेशन

  पुस्‍तकालयवार पुस्‍तकों की सूची यहाँ प्रस्‍तुत है ।





राजभाषा वि‍भाग/पूर्व रेलवे/आसनसोल मंडल द्वारा राजभाषा पखवाड़ा-2015 का समारोहपूर्वक आयोजन

01.09.2015 से 14.09.2014 तक संपन्‍न राजभाषा पखवाड़ा-2015 के दौरान आयोजि‍त सांस्‍कृति‍क कार्यक्रम की रूपरेखा नि‍म्‍नानुसार है -

प्रथम चरण : राजभाषा पखवाड़ा का शुभारंभ 01.09.2015 को अपर मुख्‍य राजभाषा अधि‍कारी एवं अपर मंडल रेल प्रबंधक की उपस्‍थि‍ति‍ में नवीन सभाकक्ष/मंडल कार्यालय में हुआ जि‍सके अंतर्गत नि‍म्‍न कार्यक्रम संपन्‍न हुए :

*

दीप-प्रज्‍ज्‍वलन

— मंडल रेल प्रबंधक एवं अपर मंडल रेल प्रबंधक। राजभाषा अधि‍कारी तथा उपस्‍थि‍त शाखा अधि‍कारि‍यों का सहयोग।

*

स्‍वागत अभि‍भाषण

— अपर मुख्‍य राजभाषा अधि‍कारी एवं अपर मंडल रेल प्रबंधक द्वारा एवं राजभाषा हिंदी के महत्‍व एवं एवं वर्तमान परि‍प्रेक्ष्‍य में उसकी दशा व दि‍शा पर वि‍चार प्रस्‍तुति‍।

*

नृत्‍य-प्रस्‍तुति

डॉल्‍फि‍न डाँस ग्रुप/देवघर की उदीप्‍ति‍का द्वारा स्‍वागत-गान एवं मातृ-वंदना

*

ओडि‍सी नृत्‍य

ओडि‍सी नृत्‍य शैली में ‘वंदे मातरम्’ राष्‍ट्रगीत को डॉल्‍फि‍न डाँस ग्रुप/देवघर की ही सुश्री माला, मि‍ष्‍टि‍,पल्‍लवी, अपूर्वा द्वारा सामूहि‍क नृत्‍य- प्रस्‍तुति

*

पुरस्‍कार

वि‍तरण

मई,2013 एवं नवंबर,2013 में संपन्‍न प्रवीण/प्राज्ञ परीक्षाओं मेंअच्‍छे अंकोसे उत्तीर्ण 46 रेलकर्मियों को मंडल रेल प्रबंधक श्री एन.के.सचान ने स्‍वीकृत नकद पुरस्‍कार देकर सम्‍मानि‍त कि‍या

*

नृत्‍य-प्रस्‍तुति

डॉल्‍फि‍न डाँस ग्रुप/देवघर की उदीप्‍ति‍का द्वारा

*

अध्‍यक्षीय संबोधन

मंडल रेल प्रबंधक द्वारा कार्यक्रमों की प्रशंसा करते हुए राजभाषा हिंदी के अधि‍काधि‍क प्रयोग-प्रसार हेतु अधि‍कारि‍यों एवं रेलकर्मियों को प्रेरि‍त कि‍या गया।

*

धन्‍यवाद ज्ञापन

 

के साथ प्रथम चरण संपन्‍न

द्वि‍तीय चरण : राजभाषा पखवाड़ा के द्वि‍तीय चरण अर्थात हिंदी प्रश्‍नोत्तरी प्रति‍योगि‍ता का आरंभ 04.09.2015 को नवीन सभाकक्ष/मंडल कार्यालय में हुआ जि‍सके अंतर्गत कुल 54 रेलकर्मियों को लेकर तीन सदस्‍यी कुल 18 टीमों ने बतौर प्रति‍भाग भाग लि‍या। क्‍वीज़ मास्‍टर की भूमि‍का राजभाषा वि‍भाग के पुरुषोत्तम कुमार गुप्‍ता ने तथा स्‍कोरर की भूमि‍का श्री दि‍लीप कुमार पासवान ने नि‍भायी।

*

पहला दौर

— इस दौर में साहि‍त्‍यि‍क, राजभाषा नि‍यमों पर केंद्रि‍त,सम-सामयि‍क वि‍षयों पर प्रश्‍न पूछे गए। प्रथम दौर में अंकों के आधार पर अगले दौर हेतु 12 टीमों को चुना गया।

दूसरा दौर

—  इस दौर में बूझो तो जाने, बहुवैकल्‍पि‍क एवं रेलवे तथा फि‍ल्‍मों पर आधारि‍त प्रश्‍न पूछे गए। अंकों के आधार पर प्रथम स्‍थान पर सीतरामपुर/मुख्‍य यार्ड मास्‍टर की टीम अर्थात श्री राजेश प्र. सिंह सुश्री आभा कु.राय

 श्री अनुज कुमार की टीम  एवं द्वि‍तीय स्‍थान पर व.से.इंजी./समाडि‍/ आसनसोल की टीम अर्थात सर्व श्री यशवंत कु. आर्या,श्री अशोक आशीष  एवं श्री अभि‍‍षेक कुमारकी टीम आयी। तृतीय एवं चौथे स्‍थान के लि‍ए टाई की स्‍थि‍ति‍ बन जाने पर उन्‍हीं दोनो टीमों के बीच प्रश्‍नों के कई दौर चले। तभी जाकर तृतीय एवं चतुर्थ टीम का फैसला हो पाया। तृतीय स्‍थान पर डीज़ल शेड/अंडाल की टीम अर्थात सर्व श्री मुनेश्‍वर प्र.शर्मा ,अजीत कु.साव एवं  संजीव कुमार की टीम। तीन अन्‍य अभ्‍मों को सांत्‍वना पुरस्‍कार के लि‍ए चुना गया। इसप्रकार प्रति‍योगि‍ता में भाग लेने वाली तीन सदस्‍यी छह टीमें अर्थात कुल 18 रेलकर्मी पुरस्‍कार हेतु चुने गए।


तृ‍तीय चरण : राजभाषा पखवाड़ा के तृ‍तीय चरण अर्थात हिंदी प्रश्‍नोत्तरी प्रति‍योगि‍ता का आरंभ 07.09.2015 को एमएफसी भवन/जसीडीह के सभाकक्ष में हुआ जि‍सके अंतर्गत कुल 24 रेलकर्मियों को लेकर दो-दो सदस्‍यी कुल 12 टीमों ने बतौर प्रति‍भाग भाग लि‍या। क्‍वीज़ मास्‍टर की भूमि‍का राजभाषा वि‍भाग के पुरुषोत्तम कुमार गुप्‍ता ने तथा स्‍कोरर की भूमि‍का श्री दि‍लीप कुमार पासवान ने नि‍भायी। सहयोग दि‍या श्री संजय राउत ने।

—  इस दौर में बूझो तो जाने, बहुवैकल्‍पि‍क एवं रेलवे तथा फि‍ल्‍मों पर आधारि‍त प्रश्‍न पूछे गए। अंकों के आधार पर प्रथम स्‍थान के लि‍ए ही टाई की स्‍थि‍ति‍ आ गयी। यहाँ भी प्रश्‍नों का एक धुँआधार दौर चला और अंतत: सर्व श्री धीरेंद्र गोप/स्‍वास्‍थ्‍य नि‍री./जसीडीह एवं मोहन प्रसाद साह/काधी-।।/बैद्यनाथाधाम की टीम प्रथम हुई।द्वि‍तीय स्‍थान पर सर्वश्री शंकर कुमार केसरी , अखि‍लेश कुमार, सहा. इंजीनि‍यर/मधुपुर की टीम आयी। तृतीय स्‍थान पर टि‍कट नि‍रीक्षक कार्यालय/जसीडीह की टीम के सर्वश्री यू.एस. ठाकुर तथा एस. झा की टीम आयी। यहाँ तीन अन्‍य टीमों को भी सांत्‍वना पुरस्‍कार के लि‍ए चुना गया। इसप्रकार प्रति‍योगि‍ता में भाग लेने वाली दो-दो सदस्‍यी   छह टीमें अर्थात कुल 12 रेलकर्मी पुरस्‍कार हेतु चुने गए।

चतुर्थ चरण : राजभाषा पखवाड़ा के चतुर्थ चरण अर्थात मंडल राजभाषा कार्यान्‍वयन समि‍ति‍ की ति‍माही बैठक काआयोजन हुआ। मानक कार्यसूची के आधार पर राजभाषा हिंदी के प्रयोग-प्रसार की समीक्षा हुई। इसी दरमि‍यान ऑन स्‍पॉट उपस्‍थि‍त अधि‍कारि‍यों के बीच हिंदी प्रश्‍नोत्तरी प्रति‍योगि‍ता भी करायी गयी। क्‍वीज़ मास्‍टर की भूमि‍का राजभाषा वि‍भाग के पुरुषोत्तम कुमार गुप्‍ता ने नि‍भायी। अधि‍कारि‍यों ने इसप्रकार की स्‍वत:स्‍फूर्त प्रति‍योगि‍ता के प्रति‍ बड़ा उत्‍साह दि‍खाया। मंडल रेल प्रबंधक श्री एन.के.सचान ने भी इस प्रकार की प्रति‍योगि‍ता की सराहना की तथा नि‍देश दि‍या कि‍ इस प्रति‍योगि‍ता में भाग लेने वाले सभी अधि‍कारि‍यों को प्रोत्‍साहनस्‍वरूप एक-एक शब्‍दकोश दि‍या जाए।

पंचम चरण : राजभाषा पखवाड़ा के पंचम चरण अर्थात गीत-संगीत-नृत्‍य का संक्षि‍प्‍त कार्यक्रम एवं पुरस्‍कार वि‍तरण का आरंभ 14.09.2015 को नवीन सभाकक्ष/मंडल कार्यालय में हुआ। सर्वप्रथम सुश्री आकाक्षा बारी/सुपुत्री आनंद कुमार आनंद/आसनसोल के दो गीतों ने समारोह में रागात्‍मक रस भरा।  सुप्रसि‍द्ध कवि‍ नंद लाल पाठक के गीत माँ, सुनाओ न एक ऐसी कहानी,जि‍समें राजा हो ना रानी ....की सस्‍वर-प्रस्‍तुति‍ ने समां बॉंध दि‍या। इसके उपरांत सुश्री मौमि‍ता आचार्यी/सुपुत्री श्री पी.के.आचार्जी ने गणेश वंदना पर नृत्‍य प्रस्‍तुत कि‍या। पुन: सुश्री आकांक्षा ने सुप्रसि‍द्ध गीत जोत से जोत जलाते चलो,प्रेम की गंगा बहाते......को संगीतमय प्रस्‍तुति‍ दी। इसके बाद सुश्री मौमि‍ता ने प्रसि‍द्ध धारावाहि‍क सत्‍यमेव जयते के थीम सांग को नृत्‍य शैली में प्रस्‍तुत करके भरपूर प्रशंसा पायी।

* अपर मंडल रेल प्रबंधक महोदय ने माननीय रेल मंत्री के हिंदी दि‍वस संदेश का वाचन कि‍या।

* पुरस्‍कार वि‍तरण : अपर मंडल रेल प्रबंधक महोदय द्वारा इसके अंतर्गत 1) हिंदी प्रश्‍नोत्तरी प्रति‍योगि‍ता/मंडल कार्यालय, 2) हिंदी प्रश्‍नोत्तरी प्रति‍योगि‍ता/जसीडीह के वि‍जेता रेलकर्मियों को नकद पुरस्‍कार एवं सम्‍मान-पत्र देकर पुरस्‍कृत कि‍या गया।

इसी दौरान  3) अधि‍कारि‍यों की हिंदी प्रश्‍नोत्तरी प्रति‍योगि‍ता के सहभागी अधि‍कारि‍यों को पुरस्‍कृत कि‍या गया।


*स्‍वतंत्र चरण : राजभाषा पखवाड़ा के ही एक स्‍वतंत्र चरण के रूप में स्‍थानीय वि‍वेकानंद इंस्‍टीच्‍यूट/डुरांड में एक वि‍राट हिंदी कवि‍ सम्‍मेलन आयोजि‍त हुआ।

सर्वप्रथम * पुष्‍प-गुच्‍छ देकर मंडल रेल प्रबंधक द्वारा कवि‍यों का स्‍वागत कि‍या गया।

* सुश्री आकांक्षा बारी द्वारा प्रस्‍तुत सरस्‍वती वंदना से इस समारोह का पवि‍त्र शुभारंभ हुआ।

*इसके उपरांत मंडल की राजभाषा पत्रि‍का रेल रश्‍मि‍ के 25वेँ अंक का लोकार्पण मंडल रेल प्रबंधक एवं अपर मंडल रेल प्रबंधक के कर कमलों द्वारा हुआ।

*अग्रलि‍खि‍त कवि‍यों ने भाग लि‍या : श्री इसहाक़ खान/अपर मंडल रेल प्रबंधक/पूरे/ आसनसोल,सर्वश्री सतीश कुमार वर्मा/चि‍त्तरंजन,अशोक प्रसाद सिंह/वरि‍.शि‍क्षक/केंद्रीय वि‍द्यालय/चि‍त्तरंजन, आनंद कुमार आनंद/आसनसोल, शकील अहमद अंसारी/मधुपुर,डॉ. शंकर मोहन झा/हिंदी वि‍द्यापीठ/देवघर, सर्वेश्‍वर दत्त द्वारी/सेवानि‍वृत्त शि‍क्षक/केंद्रीय वि‍द्यालय/चि‍त्तरंजन, कुमार आशीष साथी/उप मुख्‍य यांत्रि‍क इंजी/रेल परि‍योजना कायार्लय/पूर्व मध्‍य रेलवे/पटना, श्री वि‍जय कुमार, मुख्‍य टि‍कट नि‍रीक्षक/पूर्व रेलवे/साहेबगंज, वेद प्रकाश मि‍श्र/कनि‍ष्‍ठ अनुवादक/खड़गपुर/रेल कारखाना प्रबंधक कार्यालयसे पधारे कवि‍यों ने वि‍वि‍ध सम-सामयि‍क वि‍षयों को केंद्र बना कर रची गयी अपनी कवि‍ताओं का पाठ अपनी वि‍शि‍ष्‍ट शैली में प्रस्‍तुत कि‍या। इस क्रम अपर मंडल रेल प्रबंधक श्री खान की रचनाओं का श्रोताओं ने भरपूर आनंद उठाया। वि‍शेषकर हिंदी की सामासि‍क एवं लचीली प्रवृत्ति‍ को अभि‍व्‍यक्‍त करती उनकी काव्‍य-पंक्‍ति‍यों ने खास प्रभाव डाला। श्री आनंद ने सामयि‍क समस्‍याओं से जूझते मानव-मन की पीड़ा को अपनी कवि‍ताओं के माध्‍यम से अभि‍व्‍यंजना दी। इसी क्रम में श्री वेद प्रकाश मि‍श्र ने एडहॉक शीर्षक अपनी व्‍यंग्‍यात्‍मक कवि‍ता खास मुद्रा और तेवर के साथ पेश की तो एक अलग ही समां बंध गया। श्री अशोक कुमार सिंह ने हिंदी की व्‍यापकता को केंद्र बना कर अपनी कवि‍ता पेश की। इसी क्रम में रेल अधि‍कारी श्री कुमार आशीष  ने जब अपने भावों का संगीत छेड़ा तो श्रोताओं ने उनकी कवि‍ता को हाथों-हाथ लि‍या। उनकी ग़ज़लों को जब उन्‍हीं का सधा हुआ स्‍वर मि‍‍ला तो भाव-रस में श्रोतावर्ग अवगाहन करने लगे। सांप्रदायि‍कता के खि‍लाफ जब श्री शकि‍ल अंसारी की ग़ज़ल गूँजी तो करतल-ध्‍वनि‍ से उनका भरपूर अभि‍नंदन कि‍या गया गया। इसी क्रम में देवघर से पधारे हमारे वि‍शि‍ष्‍ट कवि‍ श्री सर्वेश्‍वर दत्त द्वारी ने अपने गीतों का सस्‍वर पाठ कि‍या। उनके प्रेम-गीत ने खास वाह-वाही बटोरी। डॉ. शंकर मोहन झा की कवि‍ताओं ने भी एक अलग ही रंग बि‍खेरा।

*अध्‍यक्षीय संबोधन : मंडलरेल प्रबंधक महोदय के संक्षि‍प्‍त किंतु प्रेरक संबोधन के साथ ही उन्‍हीं की अध्‍यक्षता एवं अपरमुख्‍य राजभाषा अधि‍कारी-सह- अपर मंडल रेल प्रबंधक श्री इसहाक़ खान के सार्थक मार्गदर्शनमें तथा राजभाषा अधि‍कारी श्री राकेश कुमार ति‍वारी की सक्रि‍य सहभागि‍ता में 01 सि‍तंबर,15 सेआरंभ इस समारोह का सफल तथा सुरुचि‍पूर्ण समापन हुआ।

राजभाषा पखवाड़ा झलकियां

***********000000***********




Source : Eastern Railway CMS Team Last Reviewed on: 24-09-2015  


  Admin Login | Site Map | Contact Us | RTI | Disclaimer | Terms & Conditions | Privacy Policy Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2016  All Rights Reserved.

This is the Portal of Indian Railways, developed with an objective to enable a single window access to information and services being provided by the various Indian Railways entities. The content in this Portal is the result of a collaborative effort of various Indian Railways Entities and Departments Maintained by CRIS, Ministry of Railways, Government of India.